Friday, November 27, 2020

ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों ने गैरकानूनी तरीके से 39 अफगानों की हत्या की : रिपोर्ट

फोटो सौ. (रॉयटर्स)

ऑस्‍ट्रेल‍िया (Australia) के स्‍पेशल फोर्सेस के कम से कम 19 जवानों ने अफगानिस्‍तान (Afghanistan) के 39 लोगों की गैरकानूनी तरीके से हत्‍या कर दी. अफगान लोगों की हत्‍या की जांच वर्ष 2016 में शुरू हुई थी और अब उसकी र‍िपोर्ट आई है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 21, 2020, 10:16 PM IST

मेलबर्न. युद्ध अपराधों से जुड़ी सैन्य रिपोर्ट (Report) के अनुसार इस बात की ‘विश्वसनीय जानकारी’ है कि ऑस्ट्रेलियाई विशेष बलों के मौजूदा और सेवानिवृत्त कम से कम 19 सैनिकों ने कथित तौर पर 39 अफगानों की गैरकानूनी तरीके से हत्या की थी. व्हिसल-ब्लोअर की रिपोर्टों और स्थानीय मीडिया की खबरों में अफगानिस्तान में निहत्थे पुरुषों और बच्चों की कथित हत्या की चर्चा के बाद ऑस्ट्रेलिया (Australia) में 2016 में जांच शुरू की गई थी.

रिपोर्ट गुरुवार को जारी की गई जस्टिस पॉल ब्रेरेटन के एनएसडब्ल्यू कोर्ट ऑफ अपील ने चार साल की जांच में पाया कि 23 घटनाओं की ‘विश्वसनीय जानकारी’ है, जिनमें ऑस्ट्रेलियाई बल के जवान गंभीर अपराधों में शामिल थे. वे या तो अपराधों को अंजाम दे रहे थे, या उनमें मदद करे रहे थे. रिपोर्ट में कहा गया कि 23 घटनाओं में ऑस्ट्रेलियाई विशेष बलों के हाथों 39 अफगानों की कथित तौर पर हत्या की ‘विश्वसनीय जानकारी’ है. इनमें से दो घटनाओं को ‘क्रूर व्यवहार’ के युद्ध अपराध के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है. वहीं, ‘एपी’ की एक खबर के अनुसार ऑस्ट्रेलियाई रक्षा बल के प्रमुख जनरल एंगस कैंपबेल ने कहा कि शर्मनाक रेकॉर्ड में कई कथित उदाहरण शामिल हैं, जिनमें से गश्त दल के नए सदस्यों ने पहली हत्या अंजाम देने के जुनून में किसी कैदी को गोली मार दी.

ये भी पढ़ें: काबुल में एक के बाद एक जोरदार धमाके, 5 की मौत 21 लोग घायल

उन्होंने कहा कि अपनी इन हरकतों को छुपाने के लिए सैनिक गलत कहानियां गढ़ते हैं और दावा करते हैं कि कैदी आपस में दुश्मन थे और कार्रवाई में मारे गए. कैंपबेल ने कहा कि गैरकानूनी तरीके से हत्या करने का सिलसिला 2019 में शुरू हुआ था, लेकिन 2012 और 2013 में भी इस तरह की सबसे अधिक वारदात सामने आयीं.

Most Popular

एस्ट्राजेनेका के गलती स्वीकारने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा, ‘ऑक्सफोर्ड कोविड वैक्सीन सुरक्षित है’

प्रतीकात्मक तस्वीरनई दिल्ली: सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने गुरुवार को कहा कि एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित COVID-19 वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है...

सीलिंग मामला : सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार को न्याय मित्र की जिम्मेदारी से किया मुक्त

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!ख़बर सुनेंख़बर सुनेंउच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार...