Home बिज़नेस RBI तत्काल ब्याज दरों में कटौती नहीं कर सकता: एसबीआई चेयरमैन

RBI तत्काल ब्याज दरों में कटौती नहीं कर सकता: एसबीआई चेयरमैन

HTLS 2020: हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट 2020 के तीसरे दिन दूसरे सत्र में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा से सीएनबीसी टीवी-18 की मैनेजिंग एडिटर शेरीन भान से बातचीत के दौरान कहा, “भारत की अर्थव्यवस्था में दूसरी तिमाही के दौरान महत्वपूर्ण सुधार देखने को मिला है। मैं इसे अनलॉक के साथ को-रिलेट करुंगा। अनलॉक ने डिमांड को बढ़ाया, जिसकी वजह से महत्वपूर्ण सुधार देखने को मिला। पहली तिमाही के मुकाबले अर्थव्यवस्था में संकुचन में कमी आएगी। मैं उम्मीद करता हूं 8-9 फीसदी के बीच संकुचन हो सकता है।” उन्होंने कहा कि RBI तत्काल ब्याज दरों में कटौती नहीं कर सकता। केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति एक समायोजित रुख अपनाएगी।

 

 

यस बैंक संकट को लेकर खारा ने कहा, “जब नियम होते हैं तो एक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि मैनेजमेंट इन्हें कैसे लागू करता है। कॉर्पोरेट प्रशासन शायद ठीक से लागू नहीं हुआ है, जिसके कारण YES बैंक और इसकी तरह अन्य घटनाएं हुईं।” वहीं कॉर्पोरेट हाउस फंड्स पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा, “कॉर्पोरेट हाउस फंड्स और कुछ अन्य मुद्दे हैं, यही वजह है कि उन्होंने बैंकिंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाई है, लेकिन मुझे विश्वास है कि यह अगले साल मार्च तक होगा।”

किफायती आवास क्षेत्र में मांग बढ़ी

खारा ने कहा कि होम लोन डिस्बर्सल में 12% की बढ़ोतरी देखी जा रही है। देश के विभिन्न हिस्सों में इसकी प्रवृत्ति भिन्न हो सकती है, लेकिन विशेषकर किफायती आवास क्षेत्र में मांग में तेजी है। यह क्षेत्र आगे बढ़ने की ओर अग्रसर रहा है।” उन्होंने यह भी कहा कि पोस्ट-अनलॉक हर दिन एक नया दिन है। जिस तरह से आर्थिक पुनरुद्धार हो रहा है, वह बहुतों को उम्मीद दे रहा है। मूल्यांकन मैट्रिक्स में बदलाव हो रहा है, कॉर्पोरेट घरानों में भी बदलाव देखने को मिल रहा है। लोग मांग के पुनरुद्धार की प्रतीक्षा करेंगे।”

‘कोविड -19 को बदलेगा प्रतिमान’

“ऐसी हर स्थिति (जैसे कोविद -19) एक ऐसे परिदृश्य की ओर ले जाती है जहां लोगों की आदतें बदल जाती हैं। इस महामारी के बाद वर्चुअल मीटिंग्स और संपर्क रहित भुगतान एक वास्तविकता बन गई है। मुझे लगता है कि इसका कुछ हिस्सा रहेगा। हमने  देखा कि YONO को ग्राहकों ने हाथों-हाथ लिया और पसंद किया। ”

अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में बात करते हुए, SBI के अध्यक्ष दिनेश खारा ने कहा कि वह ग्रामीण अर्थव्यवस्था में बहुत सारी सकारात्मक गतिविधि देख रहे हैं। खारा ने कहा, “प्रवासी मजदूर शहरों की ओर लौट रहे हैं,”

Most Popular