Friday, November 27, 2020

क्या बैंक में आपका पैसा डूब जाएगा, जानें कैसे सुरक्षित रखें अपने खून-पसीने की कमाई?

नई दिल्ली: क्या बैंकों में हमारा और आपका पैसा सुरक्षित है? ये सवाल इसलिए खड़ा हो रहा क्योंकि लक्ष्मी विलास बैंक के खाता धारकों का पैसा बैंक में फंस गया है. आपको याद होगा कि पिछले साल पीएमसी बैंक भी डूब गया था जिसके बाद लोगों की गाढ़ी कमाई बैंक में धरी की धरी रह गई थी. आखिर लोग अपने खून-पसीने की कमाई रखें तो कहां रखें?

लक्ष्मी विलास बैंक के चलते उठे सवाल

चेन्नई की 100 साल पुरानी लक्ष्मी विलास बैंक से लक्ष्मी रूठती हुई नजर आ रही हैं. केंद्र सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक से खाताधारकों पर उनका जमा पैसा निकालने की सीमा तय कर दी है. 16 दिसंबर 2020 तक बैंक के खाताधारक एक खाते से अधिकतम 25 हज़ार रुपये ही निकाल सकते हैं.

ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि लक्ष्मी विलास बैंक के आर्थिक हालात बिगड़ गई है. रिज़र्व बैंक के मुताबिक़ लक्ष्मी विलास बैंक लिमिटेड की आर्थिक स्थिति में लगातार गिरावट हुई है. बीते तीन साल से भी अधिक समय से बैंक को लगातार घाटा हो रहा है. इससे इसकी नेटवर्थ घटी है. किसी सक्षम रणनीतिक योजना के अभाव और बढ़ते नॉन परफ़ॉर्मिंग एसेट के बीच घाटा जारी रहने की संभावना है.

आख़िर बैंकों में जमा पैसा कितना सुरक्षित है?

पीएमसी बैंक घोटाले से सीख लेते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीताराम ने बजट में इस साल बैंक खातों पर बीमे की रकम अधिकतम 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दी थी. यानी कि जिनके खाते में 5 लाख रुपये तक की रकम है वो थोड़ी राहत की सांस ले सकते हैं.

 ये कैसे सुनिश्चित करें कि पैसा बैंक में सुरक्षित रहेगा?

– ऊंचा ब्याज देनेवालें बैंकों की बैलेंस शीट और NPA के आंकड़े अच्छे से चेक कर लें.

– अपने सारे पैसे कभी भी एक बैंक में न रखें.

– अलग- अलग बैंकों में अपने खाते खुलवाएं.

– परिवार के अलग-अलग सदस्यों के नाम पर अलग खाते खुलवाएं.

– किसी भी खाते में 5 लाख से ज्यादा पैसे न रखें.

– बैंक डूबने की स्थिति में अगर आपके खाते में 5 लाख से ज्यादा की रकम है तो भी आपको अधिकतम 5 लाख रुपये ही वापस मिलेंगे.

– जिनके खाते में 5 लाख रु से कम है वो राहत की सांस ले सकते हैं क्योंकि उन्हें पूरी रकम वापस मिल सकती है.

 रिजर्ब बैंक कैसे रखती हैं गड़बड़ करने वाले बैंकों पर नजर?

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया का काम है कि हर साल बैंकों का बही-खाता देख कर इस बात का हिसाब रखे कि कहीं किसी बैंक में कोई गड़बड़ी तो नहीं है. जहां कहीं आरबीआई को गड़बड़ी की आशंका होती है, वहाँ वो चेक और बैलेंस लगाते हैं.

मामला नहीं सुधरने पर बैंक का कंट्रोल कुछ दिन के लिए अपने हाथ में ले लेते हैं. थोड़ी सी छानबीन करके आप ऐसे बैंकों की लिस्ट इंटरनेट पर देख सकते हैं, जिनको ‘स्ट्रेस्ड बैंक’ कहा जाता है. अगर आपका बैंक ऐसी सूची में है, तो तुरंत पैसा निकालना फ़ायदे का सौदा होगा.

पूरे मामले पर लक्ष्मी विलास बैंक का क्या कहना है?

लक्ष्मी विलास बैंक का कहना है कि घबराने की जरूरत नहीं है. सबका पैसा सुरक्षित है. सरकार ने बैंक को बचाने के लिए डीबीएस बैंक से विलय को मंजूरी भी दे दी है. ऐसे में लोगों इस बात से राहत की सांस ले सकते हैं कि सरकार किसी भी बैंक को इतनी आसानी से डूबने नहीं देगी. सरकार का कहना है कि अगर किसी को इलाज, उच्च शिक्षा की फीस या शादी करनी हो तो खाताधारक रिजर्व बैंक की इजाजत से 25 हजार रु से ज्यादा की रकम भी निकाल सकता है.

 कैसे ऐसी स्थिति में पहुंची लक्ष्मी विलास बैंक?

लक्ष्मी विलास बैंक लिमिटेड की आर्थिक स्थिति में लगातार गिरावट हुई है. बीते तीन साल से भी अधिक समय से बैंक को लगातार घाटा हो रहा है. इससे इसकी नेटवर्थ घटी है. किसी सक्षम रणनीतिक योजना के अभाव और बढ़ते नॉन परफ़ॉर्मिंग एसेट के बीच घाटा जारी रहने की संभावना है.

बच्चे का बनवाना है आधार, जानें कौन से डॉक्यूमेंट्स की पड़ेगी जरूरत 

Most Popular

एस्ट्राजेनेका के गलती स्वीकारने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा, ‘ऑक्सफोर्ड कोविड वैक्सीन सुरक्षित है’

प्रतीकात्मक तस्वीरनई दिल्ली: सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने गुरुवार को कहा कि एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित COVID-19 वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है...

सीलिंग मामला : सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार को न्याय मित्र की जिम्मेदारी से किया मुक्त

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!ख़बर सुनेंख़बर सुनेंउच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार...

Kiara Advani ने गोल्डन साड़ी में फ्लॉन्ट की अपनी परफेट बॉडी, इंटरनेट पर बिखेर रही हैं अपना जलवा

बॉलीवुड एक्ट्रेस कियारा आडवाणी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक फोटो शेयर की जिसमें वो किसी अप्सरा से कम...